मधुमक्खी से शहद लेना उचित हे क्या ?

मधुमक्खी का पूरा जीवन फूलो पर निर्भर करता हे। उसके आहार एक मात्र स्रोत फुल हे। साल दोरान वर्षा रुतु और वसंत रुतु में जब अधिक मात्रा में फुल खिलते हे तब मधुमक्खी फूलो में रस एकत्रित करके उसमे से शहद बनाने का कार्य करती हे,और फूलो के अभाव के समय जीवन निर्वाह के लिए इस संग्रहित शहद का आहार के रूप में इस्तेमाल करती हे। यह पढ़ने क साथही मन में यह प्रश्न उपस्थित होता हे, क्या यह शहद निकालने उचित हे?

मधुमक्खी पालन में मधुमक्खीको पुरे साल फुल मिलते रहे ऐसी वयवस्था की जाती हे। पुरे साल फुल मिलते रहे इसलिए सीज़न के मुताबिक मधुमक्खी के बक्से की जगह बार-बार बदलते रहते हे, पुरे साल फुल मिलाने की वजह से मधुमक्खी जरुरतसे ज्यादा शहद का निर्माण करती हे इस ज्यादा एकत्रित हुए शहद को आधुनिक मशीनकी मदद से निकाल लिया जाता हे, जिसमे मधुमक्खीको बिलकुल नुकशान नहीं पहोचाया जाता। यह प्रक्रिया शोषणकी नहीं बल्कि पोषणकी हे इंडिजिनस हनी १००% शुद्ध हे और १००% स्तविक भी हे।